बाहुबली 2 Exposed : क्या बाहुबली महाभारत की Copy थी ?

बाहुबली 2 ने वर्ष 2017 Box Office पर जमकर कमाई की, आपको लग रहा होगा 3 साल पहले Relaese हुई फिल्म की चर्चा आज हम क्यों कर रहे हैं, और आपको तो किसी भी Angle से बाहुबली Copy नहीं लगी, लेकिन हम यहाँ पर आपको कुछ ऐसी बाते बताएँगे जिसे जानकर आप Bahubali 2 के Charcters को महाभारत की Copy ही बोलेंगे |

आप सभी जानते हैं कि B R चोपड़ा द्वारा निर्मित महाभारत जब 90’s में Release हुई थी, तो उसे देखने के लिए लोग अपने सारे काम बंद करके TV के सामने बैठ जाते थे, शायद बाहुबली फिल्म के निर्माता यह बखूबी जानते थे कि अगर हमने अगर हमने महाभारत की कहानी को तोड़ मरोड़ कर उससे कोई नयी कहानी बनाई तो यह लोगो तो बेहद पसंद आएगी | S. S. Rajamouli यह बखूबी जानते थे अगर उन्होंने यह फिल्म बनाई तो यह फिल्म फिल्म खूब चलेगी, और हुआ भी ऐसा ही, इस फिल्म ने न सिर्फ भारत में बल्कि जापान जैसे देशों में भी अपनी अमिट छाप छोड़ी |

चलिए अब बात करते हैं बाहुबली के Copied Characters के बारे में, और जानते हैं कि आखिर महाभारत और फिल्म बाहुबली में हमने क्या क्या समानताये देखी ?

कटप्पा भीष्म के किरदार में :

जब आप कटप्पा की भीष्म से तुलना करते हैं तो इसमें आपको ढेर सारी Similarties देखने को मिलती हैं, जैसे कि दोनों का सत्ता के लिए Loyal होना, कटप्पा और भीष्म दोनों ही शासन के आदेश का पालन करने वालों में थे, भले ही राजा कोई भी वो अपनी कर्तव्यनिष्ठा के कारण राजा के आदेश से बंधे हुए थे |

कटप्पा और भीष्म दोनों ही धर्म प्रिय थे, दोनों ही जीवनभर अविवाहित होकर राजा के आदेशों का पालन करते रहे | कटप्पा और भीष्म बहुत अच्छे योद्धा थे लेकिन राजा के आदेशनुसार दोनों को ही अधर्मी राजाओं के साथ रहना पड़ा |

बाहुबली पांडवों के किरदार में,

डायरेक्टर S. S. Rajamouli ने बड़ी चतुराई से पाँचों पांडवों के सारे गुण बाहुबली के कैरेक्टर में डाल दिए | जैसे कि फिल्म में बाहुबली फिल्म में बाहुबली को एक कुशल तीरंदाज दिखाया गया है, जोकि अर्जुन का गुण है| फिल्म बाहुबली में बाहुबली किरदार को भीम की तरह बलशाली दिखाया गया है , जैसे कि वह कैसे वह बड़ी भारी शिवलिंग को अपने कन्धों पर उठा लेता है, और वह कैसे रथ को कुमार वर्मा के ऊपर से फेंक देता है | धर्मनिष्ठ होने का गुण युधिष्ठिर से लिया गया है कि कैसे वह घ्रणित सेनापति का सिर काट कर बोलता है – औरत पर हाथ डालने वाले की उँगलियाँ नहीं काटते हैं, काटते हैं उसका गला | बाहुबली को सहदेव की तरह बुद्धिमान और नकुल की तरह सुंदर दिखाया गया है |

और जैसे महाभारत में पांडवों के राज्य से बाहर निकालने बाद उन्होंने एक सुंदर नगरी बनाई थी ठीक वैसे ही बाहुबली को भी राज्य से निकालने के बाद सुंदर नगरी बनाते हुए दिखाया गया है|

भल्लालदेव को दुर्योधन के किरदार में,

जैसे भल्लालदेव बाहुबली का भाई था वैसे ही पांडव भी दुर्धोंधन के भाई थे | दोनों में ही राजा और राज्य के लिए लड़ाई थी, साथ भल्लालदेव और दुर्योधन दोनों अधर्मी थे और पांडवों , बाहुबली की पत्नी से शादी करना चाहते थे| यहाँ तक दोनों के प्रमुख अस्त्र भी गदा ही थे| दोनों ही अपने सगे भाइयों से जलते थे | दोनों ही राजा बनना चाहते थे, लेकिन दोनों ही राजा बनने योग्य नहीं थे |

देवसेना और द्रौपदी :

देवसेना और द्रौपदी के कैरेक्टर में, देवसेना और द्रौपदी दोनों ही लड़ाई का एक बड़ा कारण भी थी | बाहुबली फिल्म में देवसेना को भी द्रौपदी जितना तेज ही दिखाया है | जिस प्रकार द्रौपदी को राज्यसभा में बेज्जत किया गया, ठीक उसी प्रकार देवसेना को भी राज्यसभा में बेज्जत किया गया |

जिस प्रकार द्रौपदी ने अपने अपमान का बदला लेने के लिए दु:शासन के रक्त से अपने केश धोने की कसम खाई थी, वैसे ही देवसेना ने अपने अपमान का बदला लेने के लिए भल्लाल्देव को जलाने की कसम खाई थी | दोनों के ही विवाह समय वह अपने पति की राजा होने की पहचान से परिचित नहीं थीं |

बिज्ज्लदेव (भल्लालदेव के पिता) और धृतराष्ट्र :

जैसे बिज्ज्लदेव, भल्लालदेव के पिता थे और धृतराष्ट्र दुर्योधन के पिता थे | बिज्ज्लदेव और धृतराष्ट्र, दोनों के ही पुत्र अधर्मी थे | और दोनों को ही सिंघासन की लालसा थी | बिज्ज्लदेव और धृतराष्ट्र, दोनों ही शारीरिक रूप से परिपूर्ण नहीं थे, लेकिन फिर भी इन दोनों में पर्याप्त शक्ति थी | जैसे कि फिल्म में दिखाया भी गया है कि कैसे बिज्ज्लदेव एक मुक्के में ही खम्भे को तोड़ देता है |

Overall बाहुबली एक बहुत अच्छी Bollywood फिल्म थी, और इस फिल्म ने हिंदुत्व को Bollywood में बहुत ही अच्छे ढंग से दर्शाया | लेकिन कही न कहीं इनको Inspired By Mahabharat जैसा Credit फिल्म में देना चाहिए था, मात्र Credit देने से ही आज की युवा पीढी अपने धर्म ग्रन्थों में रुचि लेती | फिलहाल फिल्म बाहुबली ने 2017 से Bollywood Directors को ये तो सीखा ही दिया कि हिंदुत्व पर भी शानदार फ़िल्में बन सकती हैं, और लोग उसे पसंद भी करते हैं |

दोस्तों आशा है आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी, अगर आपको हमारा Bollywood के प्रति यह नजरिया पसंद आया हो तो हमारी इस पोस्ट को अपने Friends के साथ  Share जरुर करे |

Leave a Comment